अधूरी चुदाई तक का प्यार का पहला पड़ाव

 
loading...

कहानी शुरू करने से पहले कुछ पुरानी बातें बताना चाहता हूँ। मेरी दसवीं की पढ़ाई के बाद बाबा का ट्रान्स्फर यहाँ गुजरात हुआ, सो मेरे एग्जाम खत्म होते ही पूरा परिवार यहाँ शिफ्ट हो गया।

जिस किराए के मकान में हम रह रहे थे वो बाबा के सहकर्मी का ही था। वे हमारे पड़ोसी थे.. उनके परिवार में वो अंकल, आंटी और उनकी एक बेटी थी। उसका नाम प्रिया था, वो मुझसे कुछेक माह बड़ी थी.. वो मेरी अच्छी दोस्त बन गई थी। हम दोनों 12 वीं तक तो अलग-अलग कॉलेज में पढ़ते थे.. लेकिन इंजीनियरिंग के लिए एक ही कॉलेज में एड्मिशन मिला। इसके बाद हमारी दोस्ती और बढ़ती गई और ये दोस्ती प्यार में कब बदल गई, पता ही नहीं चला।

मैंने शायद थर्ड इयर में प्रिया से अपने दिल की बात की, उसे भी ये सब पता था और वो भी मुझे चाहती थी। बस प्यार के साथ-साथ हम दोनों में नज़दीकियाँ भी बढ़ती चली गईं।

लेकिन यह एक छोटा शहर था, तो मिलना या इन नज़दीकियों को बढ़ाना इतना आसान नहीं था। हमें अपनी दिली ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए भी छुप-छुप कर मिलना पड़ता था।

 

नज़दीकियों की बात करें तो एक-दूसरे को बांहों में लेने से बढ़कर हम कुछ नहीं कर पाए थे। हम दोनों को आगे बढ़ना तो था.. पर बेबस थे। हम अपनी प्यास बुझाने के लिए बस फोन पर प्यार भरी बातें करके मन को तसल्ली दे देते थे।

लेकिन इसी बीच हमें अपने प्यार को अगले पड़ाव पर ले जाने का एक मौका मिला।

इससे पहले कि मैं आगे लिखूं, पहले आपको प्रिया के बारे में बता दूँ। प्रिया काफ़ी स्लिम थी, पर मैं उसके नयन-नक्श का दीवाना था। उसकी भूरी आंखें, दूध सा सफेद रंग, लंबे बाल और सबसे प्यारी बात कि हंसते समय उसके गाल पे एक डिंपल पड़ जाता था। उस वक्त मुझे नशा सा छा जाता था, साथ ही वो टाइट जीन्स और टी-शर्ट में क़यामत लगती थी, जिसकी वजह उसकी फिगर थी।

प्रिया की एक सबसे खास सहेली थी महक.. जो हमारे ही ग्रुप में थी। महक हम दोनों के बारे में सब जानती थी। एक दिन हमारे टर्म एंड की छुट्टियों के दौरान महक ने मुझे और प्रिया को खाने पर उसके घर बुलाया। उसके घर वाले 2-3 दिन के लिए कहीं शहर से बाहर गए थे। इसी समय उसे मुझे राजेश से मिलवाना था, जिससे वो प्यार करती थी।

राजेश किसी दूसरे कॉलेज से था, प्रिया उससे मिल चुकी थी, पर मैं नहीं मिला था।

सो हम दोनों उस दिन शाम महक के घर मिले.. हमने उस शाम काफी मस्ती की। दोनों जोड़ों ने एक-दूसरे के काफ़ी सारे प्यार भरे फोटो खींचे, फिर खाना खाया और फिर ऐसे ही बातचीत करते हुए बैठे। फिर महक ने प्रिया को कुछ इशारा किया और राजेश को लेके बगल के कमरे में चली गई। उधर से बस दरवाजा बंद होने की आवाज़ आई।

मैंने प्रिया से पूछा- ये क्या है?

तो उसने बस मुस्कुरा के मुझे बांहों में भर लिया, मुझे तो जैसे जन्नत नसीब हुई हो। मैंने भी प्रिया को कस के बांहों में दबोच लिया और उसके गले पे किस करने लगा। प्रिया ने मुझे और जोर से दबोच लिया, जिसके कारण उसकी चूची मेरे छाती में गड़ी जा रही थीं।

फिर मैंने प्रिया के होंठों को अपने होंठों से पीने लगा, हम दोनों भी पागल हो रहे थे। हम लगभग 15 मिनट बाद अलग हुए।

मैंने प्रिया से पूछा- महक को ये सब पता है क्या?
तो उसने बताया कि महक का ही सारा प्लान था, वो राजेश से चुदवाना चाहती थी इसलिए ये सब प्लान बनाया है।

इससे मेरे अन्दर भी किसी के अचानक आने का टेंशन खत्म हुआ और मैंने उठ के पहले हॉल में आने वाला दरवाजा बंद कर दिया और वापस सोफा पे आके प्रिया को बांहों में भर लिया। उसे बांहों में उठा के उसे अपनी गोदी में बिठा लिया और वापस उसके होंठ पीने लगा।

प्रिया अपने हाथ मेरे बालों में फेर रही थी और मेरे होंठों को आहिस्ते-आहिस्ते चूस रही थी।

मैं उसके होंठों को जोरों से चूसने लगा, हमारी जबान एक-दूसरे से मिल गई। प्रिया आहें भरते हुए मेरा साथ दे रही थी। फिर मैंने प्रिया के बाल खोल दिए और एक हाथ से उसके बालों से खेलने लगा।

फिर मैं प्रिया के गले पे किस करने लगा, प्रिया बस ‘सी.. सीईइ..’ की आवाज़ निकालते हुए मज़े ले रही थी। मैं उसके गले से होते हुए कानों के इर्द-गिर्द किस करना शुरू किया और हाथों से उसे और जोरों से दबोच लिया। अब उसकी चूचियां मेरे सीने से रगड़ खा रही थीं। प्रिया भी गर्म हो चुकी थी, वो भी खुद से मेरे सीने में अपने मम्मे दबाने लगी।

इस बीच प्रिया ने अपने दोनों पैरों से मेरे कमर को जकड़ लिया। उससे हुआ यूँ कि मेरा लंड जो तन कर जीन्स से बाहर आने को तैयार था.. वो जाकर प्रिया की चुत पर रगड़ खा गया। प्रिया लंड के अहसास से एकदम से उछल पड़ी।
वो कहने लगी- इसे अभी शांत करो.. ये सब शादी के बाद ही मिलेगा।

मैंने भी हाँ में हाँ मिलाते हुए, उसे वापस पकड़ लिया और अपने सीने से लगा लिया और उसके बाद अपने हाथ उसकी कमर से होते हुए उसकी टी-शर्ट के ऊपर से ही उसकी चूची मसलने लगा। वो बस आहें भरते हुए मज़े ले रही थी।

अब मैंने जानबूझ कर अपना लंड वापस उसकी कॅप्री के ऊपर से ही उसके चूत पर रगड़ दिया। वो कुछ बोले इसके पहले मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में भर लिया। अब मैं वापस उसके होंठों को चूसने लगा। प्रिया भी इससे गर्म होकर अपनी चूत मेरे तने हुए लंड पे रगड़ने लगी।

मैं ये देख अपना एक हाथ उसके टॉप में डाल कर ब्रा के ऊपर से उसकी चूची दबाने लगा।
अह.. क्या जन्नत थी.. उसके चूचे बिल्कुल किसी गुब्बारे से थे, उनको जितना दबाओ उतना ही वापस फूलते थे।

मम्मों को मसलने से प्रिया और गर्म हो गई और उसने मुझे कसके पकड़ लिया। मैं भी अपने दूसरा हाथ उसकी टी-शर्ट में डाल उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा और धीरे से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया।

अब प्रिया मचलने लगी और कहने लगी- इन्हें पी लो रोहन, खा जाओ इन्हें..

मैंने भी देर ना करते हुए उसकी टी-शर्ट को उसके गले तक ऊपर कर दिया और मेरे सामने उसके दोनों कबूतर उछल कर निकल आए।
अह.. क्या मस्त चूचे थे यारों.. उसके मम्मे दूध से सफेद, बिल्कुल गोल और उस पर गुलाबी निप्पल आह.. मैं तो जैसे किसी दूसरी दुनिया में ही पहुँच गया।

मैं उसका एक निप्पल अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरे हाथ से दूसरे कबूतर को दबोच लिया। प्रिया के मुँह से धीरे-धीरे बस ‘आहा.. खा जाओ रोहन.. धीरे.. उम्म्म्म.. कब से तड़प रहे थे ये..’ बस ऐसे शब्द सुनाई दे रहे थे।
मैंने बारी-बारी उन्हें चूसा।

इसी बीच प्रिया ने अपनी चूत का दबाव मेरे लंड पर बढ़ा दिया और फिर अपने हाथ से जीन्स के ऊपर से ही लंड को मसलने लगी। इसी कारण मैं झड़ गया, शायद पहली बार था इसलिए।

मैंने भी अपना हाथ प्रिया की कॅप्री के अन्दर डाल दिया और पेंटी के ऊपर से चूत मसलने लगा। उसकी चूत काफ़ी पानी छोड़ रही थी, उसी कारण उसकी पैंटी भी गीली हो गई थी। मैंने पाया कि उसकी चूत काफ़ी तप गई थी। मैंने उसकी पैंटी थोड़ा बाजू कर उसकी चुत में अपनी उंगली डाल दी, वो पागलों की तरह तड़प उठी। उसकी चूत काफ़ी कसी हुई थी।

इसके बाद उसने भी मेरा लंड बाहर निकाल लिया। लंड झड़ने के कारण पूरा लंड चिपचिपा हो गया था, सो प्रिया ने उसे अपने पर्स से टिश्यू निकाल साफ कर दिया और हाथों से लंड को मुठ मारने लगी।

मैंने वापस उसके होंठों पे एक जोरदार किस की और उसे गोदी में उठा कर वहीं सोफे पे लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया। उसके चूचे मुँह में भर लिए। वो मेरा सिर अपने हाथों में पकड़ अपने सीने में दबाने लगी और आहें भरने लगी। मैंने उसके मम्मे चूसते हुए, चाटते हुए नीचे बढ़ रहा था। प्रिया बस धीरे-धीरे आहें भरते हुए ‘उम्म्म्म.. अहहाअ.. बहुत अच्छा लग रहा है.. मुझे और प्यार करो ना..’

वो ऐसे बड़बड़ा रही थी, इससे मेरा जोश बढ़ रहा था। मेरा लंड वापस पूरा तन चुका था। मैं चूमते हुए उसकी नाभि पर रुक गया और उसके इर्द-गिर्द चाटने लगा। प्रिया को जैसे होश ही ना रहा.. वो मेरा सर और दबाने लगी।

मैंने अपनी जीभ उसकी नाभि में डाल दी और चूसने लगा।

मैंने उसके नाभि चूसते हुए उसकी कॅप्री उसके घुटनों तक खींच दी और अपना तना हुआ लंड उसकी नंगी जांघों पे रगड़ने लगा।
प्रिया तड़पने लगी और कहने लगी- जल्दी करो रोहन मुझे और बर्दाश्त नहीं होगा.. मेरी प्यास बुझा दो, डाल दो अपना लंड मेरी चुत में..
मैंने कहा- रुक जाओ जान, पूरा मज़ा तो लो अपने प्यार का।

मैंने उसकी पैंटी भी उसके घुटने तक उतार दी। मैं उसकी चूत देख पागल हो गया.. बिल्कुल साफ़ और गुलाबी, गर्म होने वजह से फूली-फूली थी। मेरा जी कर रहा था कि खा जाऊं।

मैं चुत की चुम्मी लेने को बढ़ा, तभी प्रिया ने मना कर दिया। वो कहने लगी- प्लीज़ पहले मेरी चूत में अपना लंड डाल दो और मुझे अपने में समेट लो; प्लीज़ जल्दी करो.. महक आ गई तो मेरी प्यास अधूरी रह जाएगी।

मैं तो भूल ही गया था कि हम महक के घर पर हैं।

मैंने उसकी बात मानते हुए उसके पैरों के बीच आ गया और उसके ऊपर चढ़ गया। मैं उसके होंठों वापस चूमने लगा।

इस वक्त मैं तो जैसे कोई सपना देख रहा था। मैं उसे चूमते हुए अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। प्रिया तो जैसे किसी मछली जैसे तड़प रही थी और अपने चूतड़ उठा-उठा कर लंड को अपनी चुत के अन्दर लेना चाह रही थी।
वो बोली- प्लीज़ तड़पाओ मत ना..

मैंने भी उसकी बात मानते हुए उसे लंड को अपने चूत के मुख पर पकड़े रहने को कहा और लंड का जोर चूत पर देने लगा।

प्रिया की चूत पानी छोड़ने के कारण काफी चिकनी हो गई थी, इसलिए लंड का सुपारा आसानी से चूत में समा गया। आगे जोर देने पर प्रिया तड़पने लगी, तो मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और एक झटका लगा दिया।

प्रिया की आंखें आसुओं से भर आई, वो छटपटाने लगी। मैंने उसे दबाए रखा और होंठों को चूसते हुए उसके मम्मे दबाने लगा।

मैंने उसके होंठ छोड़े तो कहने लगी- बहुत जलन हो रही है, प्लीज़ निकाल दो अपना लंड, मुझे नहीं बर्दाश्त हो रहा है।

मैं उसे समझाने की कोशिश कर रहा था पर कोई फायदा नहीं था। उसे वाकयी काफ़ी तकलीफ़ हो रही थी।

फिर भी मैं वैसे ही लंड डाले उसके गले पे, गालों पर चूम रहा था.. पर कुछ फायदा नहीं हुआ।

तभी हमने दूसरे कमरे से कुछ आवाज़ सुनी.. हमें लगा कि शायद महक और राजेश आ रहे हैं, सो हम अलग होके अपने कपड़े ठीक कर हॉल का दरवाजा खोल कर वापस सोफे पे बैठ गए।

प्रिया पूरी लाल हो गई थी, उसके गोरे निखार के वजह से पहचान में आ रहा थी कि ये बहुत रोई है।

पर सोफे पर बैठने के बाद उसने मुझे किस कर थैंक्स कहा और बोलीं- रोहन आज मुझे बहुत अच्छा लगा.. मैं अपने अपने आपको पूरा महसूस कर रही हूँ.. थैंक्यू वेरी मच..

और उसने एक चुम्मी दी और बोली- आई लव यू.. मुझे बहुत अच्छा लगा कि तुमने कोई ज़बरदस्ती नहीं की।

इतने में अन्दर से कमरे के दरवाजे की आवाज़ आई, हम थोड़ा ढंग से बैठ गए। महक आई और प्रिया को देख मुस्कुराने लगी, राजेश उसके पीछे-पीछे आके हम दोनों से मिला और बाद में वो जल्दी में निकल गया।

मैं भी थोड़ी देर बाद निकल गया.. प्रिया, उस रात महक के घर ही रुक गई।



loading...

और कहानिया

loading...
One Comment
  1. SATISH KULKARNI
    November 17, 2017 |

Online porn video at mobile phone


2018 ki new hindi sax kahani anti ki with photohindi chudai ki kahaniyan zainab or zeenat ki chut ki chudai antarvasna kamuktaachudaikekahanihindiहोस्टल में बेटी बनी चुदक्कड़ चुदाई व्हीडीओस्लीपर बस में बहिन की चुदाई कीkiran ki chut chudai ki kahaniyaखून निकल गया ऐसा चोदाchcheri bahn ne chusa mera land kahanisaxxe bido hinde kamukt dotkmhindesixe.compariwarik chudai randi kutiya bana kesexy bhabhi ne chut me tel lagaya kahani 2018hindi kahani 3gp video xxxsagi bahan bani bai ki bibi or randi hindi sexe kahaniyaBhaiya Se chudwayaa Hum Tino banale Hindi sexy kahani Indianसेक्स स्टोरी माँ बेटा ट्रेवलvikash aur kanchan didi ke sath sex kahania hindi meमेनै आरती की आराम से सील तोडी और उसको चोदाhindi sex stories/chudayiki sex kahaniya. kamukta com. antarvasna com/tag/page no 55--89--211--320hindi ma saxe khaneyaअन्तर्वासना कहानीमुह मे लड डालने वाला फोटोचूत हिंदी बेरहमहिंदी ,सेक्स ,बिडियोnew hinde x kaniyahot sex stories. bktrade. ru/page no 1 to 15xnx anthrvasana sex kahanesexy stories Sonia ka cabra uska pati ka sat दो.लडका.लड.हीलाता.गड.मारतेsb se bda land xxxi vidose pageMosi.ki.chuday.ki.stoerysxxsy kaniyaक्सक्सक्स गीता कपूर के हिंदी कहानियांsaxey kahnya hindi aanchal kehindi parivarik grop doktar kesath chodae ke kahaniladki ki sandle chatne ki kahaniLily parewarek group chudaiwww.nonvegsexstory.comxxx kahani meri nanad aur sasurjimastaram ki xxx jadu story in hindihenade sakse khaneya ma or batakehinde xxx khine bhu hot sex nangi kahaniyakomal bhabhisuhag rat ki chodae xxxhindisxestroychudkad famaly ki xxx phothsin hindi sexkhaniyaभाई ने बहन की खेत मे जबरदसती चुदाई की कहानीचुत चुदाई की कहानियाbolti kahani sexwww.xxx.bihari.bhabi.chodi.khani.video.comami ki gand uncle ny chodiristo me gandmari sxy story in hindijabardshati mom hotel Gareeb manane x**xxx hinde jabar dasti xxx behosh karke xxxxxx kahanihindi ma saxe khaneyaसोए हुए दादी को चोदाgaon me 60sal ki anty ko pata ke choda hindi sexybhai se chudai rat main new kahaniXNXx video bao or betiki mene goa me chudai kri अग्रेज से भाई बहन कम उमर मे सेकसporn fila huwa chut pichwadaxxx khani gf aut bhi bhan kajansxe हिँदी कहानीBhabhi ko Sharab Ke Din condom se Choda x**चूतsexyi gandi m.n.kahani hindi meblackmail kar ke chudai ki video rishto memaa chut khujla rhi thi achanak sd kahani hindiधिरे धिरे चोदchodi khala kibur me pelte hi bahut maja aaya hindi meक्सक्सक्स वीर्य ड्रिंक वीडियोहिंदी चढाई की खहनीnidian bf xxx हिदी मे गावं कीantrvasna.hindi.xxxx.khani.hindi.mechusa, ke, Xxx, kahaniyaभाभी का बुर कामकुताbus main mazy liye sex kala land ouR ladke kahanenonvegstory.com/सग़ी-बहन-की-चुदाई-कहानी/बूरसेक्सी मेडम को सोदो व कहानीmuslmani CAL GRL KI PEHLI GAIR MRD SE CHUDAI KI STORY HINDI MEसवीता आड़ीयो सेक्सीबीस इंच लंड xxx hdhindi ma saxe khaneyasexy khani lahore khala ka garचुड़कड उछल उछल कर चुदी vedioAnit and boys xxxmaaxxx stori ladki khud batae stori hindi lengvejmaa ko dash kutto ne milkar choda Hindi sex istoriभाभी ने लैंड १० लोगो का चूसा sex storisXxx vidio biyutiful pinky and her सुहाग रात कमुक लडकी वीडियोhindisxestroyapne laude se meri chut khuna picks khani